उत्तराखंड में 11 ट्रेकर्स की मौत, वायु सेना का बड़े स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू

वायु सेना ने उत्तराखंड (Uttarakhand) के लमखागा पास में 17,000 फीट की ऊंचाई पर बड़े पैमाने पर बचाव अभियान  शुरू किया है. जहां 18 अक्टूबर को भारी बर्फबारी और खराब मौसम के कारण 17 पर्यटकों, पोर्टर्स और गाइड सहित 17 ट्रेकर्स रास्ता भटक गए थे.

लमखागा पास की ओर जाने वाले क्षेत्र से अब तक 11 शव बरामद किए गए हैं. यह हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले को उत्तराखंड के हरसिल से जोड़ने वाले सबसे खतरनाक पास में से एक है. बता दें कि भारतीय वायु सेना ने 20 अक्टूबर को अधिकारियों द्वारा किए गए एक एसओएस कॉल के बाद एक्शन शुरू किया.

साथ ही पर्यटक हिल स्टेशन हरसिल तक पहुंचने के लिए दो एएलएच हेलीकॉप्टर तैनात किए हैं. 20 अक्टूबर को राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के तीन कर्मियों के साथ एएलएच हेलीकॉप्टर पर दोपहर में 19,500 फीट की ऊंचाई पर राहत बचाव कार्य शुरू किया गया।

Uttarakhand
Uttarakhand

चाव दल ने 15,700 फीट की ऊंचाई पर चार शवों का पता लगाया. फिर हेलीकॉप्टर दूसरे स्थान पर पहुंचा और 16,800 फीट की ऊंचाई पर एक जीवित व्यक्ति को बचाया, जो हिलने-डुलने में असमर्थ था.

22 अक्टूबर को हेलीकॉप्टर ने भोर में उड़ान भरी. प्रतिकूल इलाके और तेज हवा के बावजूद दल ने 16,500 फीट की ऊंचाई से एक व्यक्ति को बचाया और पांच शवों को वापस लाने में कामयाबी हासिल की.

Share Now
more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *